मशरूम की खेती हिंदी में मिलेगी पूरी जानकारी कम लागत वाला बिजनेस

यह पोस्ट आप को कैसा लगा हमें रेटिंग दे ताकि हम अपने contant को बेहतर बना पाए post

मशरूम की खेती हिंदीमशरूम की खेती करना एक अच्छा बिज़नेस हो सकता है अगर आपको मशरूम की खेती करना आ जाए तो आप इसे काफी अच्छी इनकम प्राप्त कर सकते हैं

यह कम पैसे का अच्छा बिजनेस माना जाता है इसको आप कई तरह से शुरू कर सकते हैं और मशरूम के कई प्रकार भी होते हैं जो कि आपको अलग-अलग दामों पर मिलते और बिकते हैं

और आजकल मशरूम तो लगभग हर किसी को पसंद है और शादी विवाह में भी इसका प्रचलन बहुत ही ज्यादा बढ़ चुका है और अगर आप मशरुम का खेती करते हैं

तो आप इस मशरूम की खेती का बिजनेस से अच्छी कमाई कर सकते हैं और इस पोस्ट में हम आपको मशरूम की खेती हिंदी में पूरी जानकारी बताएंगे जो कि आपके लिए काफी लाभदायक होगी

मशरूम की खेती कैसे करें

मशरूम की खेती करने के लिए आप को मशरूम के बारे में पूरी जानकरी लेनी होगी मशरूम की खेती करने के लिए आप को मशरूम के हिसाब से उसकी खेती करनी होगी जितने भी प्रकार के मशरूम की खेती होती है

उन सब से के लिए अलग अलग मौसन और उनके लिए उनकी अनुकूल दसाये होती है तो मसरूम की खेती करने के लिए मशरूम कितने प्रकार के होते है उसके बारे में जान लेते है और उनके खेती करने के बारे में जान लेते है

बटन मशरूम की खेती कैसे करें

मशरूम की खेती में बटन मशरूम भी एक मशरूम की प्रजाति है और बटन मशरूम की खेती करने के लिए आप को शुरू में 200-260 तापमान की जरुरत होती है

और इस फसल की सुरुवात करने के लिए सबसे सही समय अक्टूबर से मार्च तक के महीने होते है और इस बिच बटन मशरूम की दो फासले उगाई जाती है

और मशरूम बड़े हो जाने पर उनको कैल्सियम क्लोराइड के घोल में डूबा कर के पानी से धो कर के सुखा ले इसके बाद इसको इनके साइज़ के हिसाब से इनकी पैकिंग बना ले जिसमे आप 250 ग्राम और 500 ग्राम के पैकिट बना सकते है

जरुरत के हिसाब से पैकिट को बड़ा कर के बेच सकते है और बटन मशरूम की खेती कर के अच्छी कमाई कर सकते है

पैरा मशरूम की खेती कैसे करें

पैरा मशरूम भी एक मशरूम की प्रजाति है और पैरा मशरूम की खेती करने के लिए आप धान के पुआल को ले कर के एक दुसरे में बाँध कर बण्डल तैयार कर लेते है और इन बण्डल को 200 ग्राम कैल्सियम कार्बोनेट में 12 से 16 घंटे तक डूबा के रख देते है और इसके बाद इसको सुखा लेते है

और इनके अवसेश बचे हुए पानी निकल जाने पर इसमें पैर मशरूम के बीज डाल देते है और इसमें 80-85% तक की नमी हमेशा उपस्थित होनी चाहिए

साथ ही 28-30 डिग्री तापमान हमेशा बना रहना चाहिए जिसके लिए आप पाली हाउस का भी निर्माड कर सकते है और हर समय पैरा मशरूम की खेती कर सकते है और इनकी तोड़ी के बाद इनको अलग अलग साइज़ और पाकिट में पैक कर के सेल कर सकते है और मशरूम की खेती से पैसे कमा सकते है

गुच्छी मशरूम की खेती

यह भी एक प्रकार का मशरूम है और इसकी खेती ज्यादा तसर जनागालो में की जाती है और इसकी सबसे खास बात यह है की इसको आप झाड़ झुड में भी आसानी से उगा सकते है

और इसमें आप इसके जहरीले भाग को अलग कर के उसको मार्केट में बहुत ही आसानी से बेच सकते है और इस तरह आप मशरूम की खेती से अच्छी कमाई कर सकते है

आयस्टर मशरूम की खेती

आयस्टर मशरूम भी एक प्रकार का मशरूम है। और इस मशरूम की खेती बहुत ही सस्ती होती है। इसमें अन्य मशरूम की तुलना में अधिक औषधि  गुण पाए जाते हैं। इसकी मांग भारत के अन्य महानगरों में बहुत ज्यादा है। जैसे – दिल्ली , चेन्नई , कोलकाता मुंबई आदि। इसीलिए पिछले 3 वर्षों में इसकी खेती में 10 गुना वृद्धि हुई है।

ढींगरी मशरूम की खेती

भारत में मशरूम का प्रयोग सब्जी बनाने में किया जाता है। ढींगरी मशरूम को खूम्बी भी कहते हैं। खुंबी मशरूम में अन्य मशरूम की अपेक्षा अधिक पोषक तत्व  पाए जाते हैं। इस प्रकार की खूम्बियों को सरलता से उगाया जा सकता

है। यह खाने में स्वादिष्ट मुलायम तथा पोषक तत्वों से भरी होती है। इसमें कम वसा तथा कम शर्करा होने के कारण मोटापे तथा रक्त पीड़ित व्यक्तियों के लिए अधिक लाभदायक होती है।

ढींगरी मशरूम उगाने का सही समय दक्षिण भारत में तथा तटवर्ती क्षेत्रों में सर्दी का मौसम अधिक उपयुक्त होता है। तथा उत्तर भारत में ढींगरी मशरूम उगाने का सही समय अक्टूबर महीने से अप्रैल महीने के मध्य तक होता है

मिल्की मशरूम की खेती

मिल्की मशरूम को दूधिया  मशरूम भी कहते हैं। मिल्की मशरूम या दूधिया मशरूम की खेती गर्मी के मौसम में बहुत ही आसानी से की जा सकती है। दूधिया मशरूम को जिस भूसे पर होगा आते हैं हम उस भूसे की गुणवत्ता और बढ़ जाती है। जिसको आप बाद में फूल और सब्जी उगाने के लिए भी प्रयोग कर सकते हैं। मिल्की मशरूम उगाने के लिए  तापमान 25 से 40 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए। यदि 25 से 40 डिग्री सेल्सियस नहीं है तो आप पाली हाउस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि दूधिया मशरूम की खेती आप अपने वर्तमान फसल में शामिल कर लें तो अपने मशरूम उत्पादन की क्षमता बढ़ा सकते हैं और भारतवर्ष में मशरूम उत्पादन से स्वरोजगार भी प्राप्त कर सकते हैं।

मशरूम की खेती के तरीके

मशरूम की खेती करने के लिए आपको सबसे पहले मशरूम के बारे में अच्छी जानकारी भी होनी चाहिए और आजकल तो लगभग सभी प्रकार के मशरूम की किस्में आ गई है

जो कि पूरे साल इसकी खेती की जाती है और मशरूम की खेती करने से पहले आपको मशरूम की खेती के बारे में अच्छी जानकारी भी लेनी होगी

जो कि आप मशरूम की खेती करने वाले के पास जाकर के या आप अपने किसान मित्र से मिलकर के मशरूम की खेती के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और मशरूम की खेती का शुरुआत करके अच्छी कमाई कर सकते हैं

और आजकल तो सबसे अच्छी बात यह है कि मशरूम का बिजनेस बहुत ही ज्यादा तेजी से गुरु हो रहा है और मशरूम की खेती करने वालों को अच्छी कमाई हो रही है

मशरूम की खेती में लागत

मशरूम की खेती में लागत की बात करें तो आप किस प्रकार के मशरूम की खेती करते हैं उसके ऊपर यह ज्यादा निर्भर करता है और मशरूम की खेती कई किस होने की वजह से यह बताना मुश्किल है कि आपको मशरूम की खेती में कितना लागत लगेगा मशरूम की खेती का शुरुआत करने के लिए आपको उपयुक्त जलवायु और उनके सामग्री की भी जरूरत पड़ेगी और आप एक अच्छे मशरूम की खेती की शुरुआत 50 से ₹70000 में कर सकते हैं जिसमें आप अपने मौसम के अनुकूल समय वाले मशरूम की उपज को पूरा करके अच्छी कमाई कर सकते हैं

मशरूम की खेती में मुनाफा

मशरूम की खेती से मुनाफा की बात करें तो इसमें बहुत ही ज्यादा मुनाफा हो सकता है लेकिन आपको इसमें अच्छी जानकारी भी होनी चाहिए अगर आप अच्छी तरह से मशरूम की खेती का शुरुआत करते हैं तो आप इससे अच्छी कमाई कर सकते हैं एक तरफ से इसमें आप कम लागत में ही ज्यादा कमाई कर सकते हैं और यह एक बहुत ही अच्छा बिजनेस बन चुका है जो कि आज लाखों लोग इस बिजनेस को कर रहे हैं और मशरूम की खेती से ज्यादा कमाई करने के लिए आप मशरूम को हर सीजन में हरी ब्राइटी में उगा करके अच्छी कमाई कर सकते हैं

मशरूम की खेती के लिए सरकारी सब्सिडी

अब तो उस मशरूम की खेती करने के लिए आपको सरकार के द्वारा सब्सिडी भी मिल जाएगी सब्सिडी को लेने के लिए आप अपने नजदीकी बैंक में जा सकते हैं जहां पर आप सब्सिडी ले सकते हैं और इसमें आप सब्सिडी ले करके अपना मशरूम की खेती का बिजनेस की शुरुआत करके अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं और सब्सिडी की बात करें तो इसमें आपको आपके बिजनेस के 40 परसेंट सब्सिडी मिलेगी या नहीं अगर आप ₹100000 में मशरूम की खेती करते हैं तो आपको ₹40000 सरकार की तरफ से सब्सिडी मिलेगा

mushroom price per kg

मशरूम की कीमत की बात करें तो मशरूम के अलग-अलग ब्राइटी अलग-अलग कीमत पर बेचते हैं लेकिन औसतन जो घर में लोग मशरम बनाने के लिए खाते हैं वह मशरूम 150 से ₹190 तक आसानी से मार्केट में उपलब्ध हो जाता है

और अन्य ऐसे मशरूम भी मिलेंगे जो कि आपको ₹3000 से लेकर के ₹15000 पर किलो तक बाजार में मिल जाएंगे और यह मशरूम के अलग-अलग ब्राइटी के कीमत आपको आपके बाजार के अनुसार से प्राप्त मिल जाएंगे

मशरूम का बीज कहां मिलता है

मशरूम के बीज आपके छोटे मार्केट और बीच के दुकान से आसानी से मिल जाएंगे जिसको आप वहां से ले सकते हैं और औसतन मशरूम के बीज आपको बड़े मार्केट में सस्ते मिलेंगे और आप वहां से लेकर के मशरूम के बीज को 2 से 3 दिन के अंदर उसक बुवाई कर दें जिससे आपकी मशरूम की फसल अच्छी होगी और आप मशरूम की फसल के बिजनेस से अच्छी कमाई कर सकते हैं

लोगो के द्वारा पूछे गए प्रश्न

Leave a Comment